भारतीय अर्थव्यवस्था रमेश सिंह-प्रतियोगी परीक्षा हेतु महत्वपूर्ण पुस्तक

0
34

भारतीय अर्थव्यवस्था रमेश सिंह Hello Friends,कैसे हैं आप सभी? अगर आप सभी विभिन्न Competitive Exams की तैयारी कर रहे हैं तो आप सभी को हमारे इस पोस्ट के द्वारा शेयर किया जा रहा यह पुस्तक आप सभी के होने वाली सभी आगामी परीक्षाओं की दृष्टि से अति महत्वपूर्ण हैं. आप सभी की जानकारी के लिए हम बता दें की आज इस पोस्ट के माध्यम से आप सभी के लिए जो पुस्तक शेयर कर रहे हैं वह भारतीय अर्थव्यवस्था रमेश सिंह-प्रतियोगी परीक्षा हेतु महत्वपूर्ण पुस्तक की है. यह पुस्तक जो हम आप सभी के लिए शेयर कर रहे हैं वह आप सभी को हिंदी और English दोनों भाषाओँ में पढने को मिलेगा.

भारतीय अर्थव्यवस्था रमेश सिंह
भारतीय अर्थव्यवस्था रमेश सिंह

अगर आप सभी को इस से सम्बंधित और भी पुस्तकों की आवश्यकता है तो आप सभी हमें कमेंट के माध्यम से अवश्य बताएं. दोस्तों हम नीचे आप सभी को लिस्ट के माध्यम से बताते हैं की आप सभी को इस पुस्तक में आप सभी को क्या-क्या पढने को मिलेगा.आप इस पुस्तक को नीचे दिए गये बटन के माध्यम से आसानी के साथ डाउनलोड कर सकते हैं.

महत्वपूर्ण जानकारी-भारतीय अर्थव्यवस्था रमेश सिंह

  1. ‘स्थाई बंदोबस्त’ प्रारंभ किया गया था- लार्ड कार्नवालिस के प्रशासन काल में
  2. स्थाई बंदोबस्त किया गया- जमींदारों से
  3. लार्ड कार्नवालिस द्वारा स्थाई बंदोबस्त लागू किया गया- 1793 ई. में
  4. चिरस्थाई बंदोबस्त, 1793 के अंतर्गत जमीदारों से अपेक्षा की गई थी कि वे खेतिहरों को पट्टा जारी करेंगे| अनेक जमीदारों ने पट्टा जारी नहीं किया| जिसका कारण था- जमींदारों के ऊपर कोई सरकारी नियंत्रण नहीं था
  5. बिहार में ‘परमानेंट सेटलमेंट’ लागू करने का कारण था- जमींदारों के लिए जमीन पर वंश परंपरागत अधिकार को स्वेच्छा से हस्तांतरित करने का अधिकार
  6. …….. में बंगाल और बिहार में भूमि पर किरायेदारों के अधिकारों को बंगाल किरायेदारी अधिनियम द्वारा दिया गया था|- 1885 ई.
  7. सर टॉमस मुनरो जिस भू-राजस्व बंदोबस्त में सम्बद्ध हैं| वहां है- रैयतवाड़ी बंदोबस्त
  8. अंग्रेजों ने रैयतवाड़ी बंदोबस्त लागू किया था- मद्रास और बंबई प्रेसीडेंसी में
  9. अंग्रेजों ने रैयतवाड़ी व्यवस्था सर्वप्रथम प्रारंभ की थी- मद्रास प्रेसिडेंट में
  10. ब्रिटिश व्यवस्था में रैयतवाड़ी भू राजस्व संग्रह प्रचलित था- दक्षिण भारत में
  11. रैयतवाड़ी बंदोबस्त के संदर्भ में सही कथन है- किसानों द्वारा लगान सीधे सरकार को दिया जाता था; सरकार रैयत को पट्टे देती थी; कर लगाने के पूर्व भूमिका सर्वेक्षण और मूल्य निर्धारण किया जाता था|
  12. असम में सर्वप्रथम चाय कंपनी की स्थापना हुई- 1839 ई. में
  13. दादाभाई नौरोजी द्वारा प्रतिपादित ‘अपवाह सिद्धांत’ (Drain Theory) की सही परिभाषा है- भारत की राष्ट्रीय संपदा का एक भाग अथवा कुल वार्षिक उत्पाद ब्रिटिश को निर्यात कर दिया जाता था जिसके लिए भारत को कोई वास्तविक प्रतिफल नहीं मिलता था|
  14. अंग्रेजों के शासनकाल में भारत के “आर्थिक दोहन” के सिद्धांत को प्रतिपादित किया- दादा भाई नौरोजी ने
  15. ‘निकास के सिद्धांत’ का प्रतिपादन किया था- दादा भाई नौरोजी ने
  16. भारत में उपनिवेशवाद का/ के आर्थिक आलोचक था/ थे –दादाभाई नौरोजी, जी. सुब्रमण्यम अय्यर तथा आर. सी. दत्त

विषय सूची-भारतीय अर्थव्यवस्था रमेश सिंह

  • अर्थशास्त्र-विषय
  • अर्थव्यवस्था का संगठन
  • अर्थव्यवस्था में राज्य की भूमिका
  • वाशिंगटन सहमति
  • अर्थव्यवस्था के क्षेत्र
  • अर्थव्यवस्था के प्रकार
  • राष्ट्रीय आय की अवधारण
  • राष्ट्रीय आय लेख के आधार वर्ष एवं विधि में संशोधन
  • 2017-2018 के लिए आय के अनुसार

About PDF: भारतीय अर्थव्यवस्था Indian Economy eBook

Book Name भारतीय अर्थव्यवस्था Indian economy
Size19 Mb
Pages801
Quality Good
FormatPDF Notes
LanguageHindi
Sharing Credits MC Graw Hill Education

डाउनलोड भारतीय अर्थव्यवस्था रमेश सिंह-प्रतियोगी परीक्षा हेतु महत्वपूर्ण पुस्तक-क्लिक करें

You May Also Like This

Friends, if you need an eBook related to any topic. Or if you want any information about any exam, please comment on it. Share this post with your friends on social media. To get daily information about our post please Click The Bell Icon Which is Given Below.

Disclaimer: SSC pdf does not own this book, neither created nor scanned. We just provide the link already available on the internet. If any way it violates the law or has any issues then kindly mail us: [email protected]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here